आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस / artificial flower business in Hindi

आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस / artificial flower business in Hindi

आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस [artificial flower business]

दोस्तों यह बात तो आप सभी समझते हैं कि हर व्यक्ति को प्रकृति से कितना ज्यादा लगाव है हर व्यक्ति तथा मैं भी प्रकृति को काफी ज्यादा प्यार करता हूं इसी प्रकार हर व्यक्ति को फूल भी काफी ज्यादा पसंद होते हैं| पर दोस्तों जब हम किसी प्राकृतिक फूल को घर पर लाते हैं तब वह अपने पौधे के साथ लगे ना रहने के कारण वह खराब हो जाता है जिसको देखकर हर व्यक्ति काफी ज्यादा निराश हो जाता है इसलिए आज के समय में हर व्यक्ति ने आर्टिफिशियल फूलों का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है| (आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस)

तथा आप भी इस चीज को अक्सर नोटिस करते होंगे कि यदि हम किसी प्रकार की शादी विवाह या फिर किसी अन्य प्रकार की फंक्शन में जाते हैं तो वहां पर हमें आर्टिफिशियल फ्लॉवर्स को काफी बड़ी मात्रा में देखने के लिए मिलते हैं जिनका काम उस शादी विवाह या फिर फंक्शन की शोभा बढ़ाना होता है इसके अलावा फूलों का उपयोग आजकल लोग अपने घरों तथा ऑफिस में भी करने लगे हैं जिससे इनकी डिमांड भी मार्केट में काफी ज्यादा बढ़ गई है|

इसलिए आज दोस्तों हम आपसे एक बेहतरीन बिजनेस यानी कि आर्टिफिशियल फ्लॉवर्स के बिजनेस के बारे में बात करने जा रही है जो कि सच में एक काफी अच्छा बिजनेस है यह एक ऐसा बिजनेस होता है जिसमें आपको ज्यादा बड़ी मात्रा में इन्वेस्टमेंट करने की आवश्यकता भी नहीं होती है तथा इसमें आपको काफी ज्यादा प्रॉफिट भी देखने के लिए मिलता है यदि आप भी आर्टिफिशियल फ्लावर का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो हमारी इस पोस्ट को पूरा अवश्य करें क्योंकि इसमें हमने आपको इस बात की संपूर्ण जानकारी प्रदान की है कि आप किस प्रकार आर्टिफिशियल फ्लॉवर्स का बिजनेस शुरू कर सकते हैं|

आर्टिफिशियल फ्लावर क्या है? [what is artificial flower?]

हमारी पोस्ट में आए हुए अधिकतर लोगों को तो इस बात के बारे में जानकारी होगी कि आर्टिफिशियल फ्लावर होता क्या है परंतु कुछ ऐसे लोग होंगे जिनको अभी तक इसके बारे में जानकारी प्राप्त नहीं हुई है तो हम उनको बताना चाहेंगे कि आर्टिफिशियल फ्लॉवर्स एक प्रकार का नकली फूल होता है जो कि मुख्य रूप से प्राकृतिक फूल की तरह ही रंग रूप तथा आकार का होता है परंतु यह फूल असली फूलों की बराबर नहीं होता है मुख्य रूप से इन फ्लावर्स का निर्माण प्लास्टिक, पेपर मेश, फोम, वुड, पोर्सेलेन आदि सामग्रियों के द्वारा किया जाता है||

आर्टिफिशियल फ्लावर की डिमांड [artificial flower demand]

दोस्तों यह बात तो हर कोई समझता है कि यदि हमें किसी चीज का बिजनेस शुरू करना है तथा उस में कामयाबी हासिल करनी है तो उसके लिए उस प्रोडक्ट की मार्केट में डिमांड होना कितनी ज्यादा महत्वपूर्ण होती है इसलिए आपके मन में यह सवाल तो आया होगा आर्टिफिशियल फ्लावर की मार्केट में भला कितनी डिमांड है इसकी डिमांड है भी या नहीं तो इसके बारे में अब हम आपको संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं|

दोस्तों अगर इसकी डिमांड की बात करें तो मार्केट में कुछ वक्त पहले से इसकी डिमांड में काफी ज्यादा बढ़ोतरी आई है जिसका मुख्य कारण है की अब जो आर्टिफिशियल फ्लावर बनाए जा रहे हैं वह वाकई में असली फूलों की तरह ही प्रतीत होते हैं तथा इनके कीमत ज्यादा होती है परंतु यह कैसे फूल होते हैं जो कि असली फूलों के मुकाबले कई गुना ज्यादा समय तक चलते हैं जिसके कारण यह फूल लोगों के द्वारा काफी ज्यादा पसंद किए जाते हैं|

मार्केट में आर्टिफिशियल ज्वेलरी की डिमांड की एक वजह है यह रोज होने वाली फंक्शन क्योंकि आज के समय में हर जगह पर कोई ना कोई फंक्शन तो होता ही रहता है इसलिए वहां पर लोग आर्टिफिशियल फ्लावर को लगाना काफी ज्यादा पसंद करते हैं क्योंकि इन फूलों के कारण फंक्शन की डेकोरेशन काफी अच्छी लगने लगती है तथा यह फूल एकदम असली फूलों की तरह प्रतीत होने के कारण लोग इन्हें ज्यादा से ज्यादा देखना भी पसंद करते हैं|

जगह का चयन [place selection]-आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस

यदि हम किसी भी प्रकार के व्यापार को शुरू करते हैं तो उसमें हमें किसी अच्छी सी जगह का चयन करना काफी ज्यादा आवश्यक होता है क्योंकि हम जहां पर अपने व्यापार को स्थापित करते हैं वह जगह हमारे व्यापार पर काफी ज्यादा प्रभाव डालती है इसलिए हमें किसी बिजनेस को शुरू करने से पहले उसकी एक सही लोकेशन का पता लगा लेना चाहिए इसी प्रकार आर्टिफिशियल फूल का बिजनेस शुरू करने के लिए हमें एक उचित स्थान का चयन करने की आवश्यकता पड़ेगी|

यदि हम आर्टिफिशियल फ्लावर के बिजनेस को शुरू करने में लगने वाले जगह की बात करें तो हम आपको बताना चाहेंगे कि इसमें आपको ज्यादा जगह की आवश्यकता नहीं पड़ती है| क्योंकि इस व्यापार को शुरू करने के लिए ना ही आपको इसके अंदर किसी प्रकार का प्लांट बनाना पड़ता है तथा ना ही किसी प्रकार के गोडाउन की आपको आवश्यकता पड़ती है इसलिए इस व्यापार को शुरू करने के लिए आपको 200 स्क्वायर फीट से लेकर 300 स्क्वायर फीट की जगह की लगभग आवश्यकता पड़ सकती है|

अगर बात करें कि हमको अपने बिजनेस को कैसी जगह में खोलना है तो इसके लिए आप अपने व्यापार को ऑन जगहों पर खोल सकते हैं जहां पर प्रतिदिन शादी त्यौहार उपवास आदि उत्सव मनाए जाते हैं आप अपने उद्योग ऐसी जगह पर खोल सकते हैं जहां पर आर्टिफिशियल फ्लावर की डिमांड काफी ज्यादा रहती हो जैसे कि फ्लोरिस्ट शॉप्स, बाजार, शॉपिंग मॉल आदि जगहों पर इनकी डिमांड बनी रहती है|

लगने वाला रो मटेरियल [bonding row material]

यदि आप आर्टिफिशियल फ्लावर के मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस को स्टार्ट करते हैं तो इसमें आपको काफी ज्यादा प्रॉफिट देखने के लिए मिल सकती है| इसलिए यदि आपके मन में आर्टिफिशियल फ्लावर के मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस को स्टार्ट करने का विचार आ रहा है तो इसे आप बेझिझक स्टार्ट कर सकते हैं परंतु इसके लिए आपको कुछ रोमांटिक रियल की आवश्यकता पड़ेगी यदि आप यह सोच रहे हैं कि इसके लिए हमें कौन-कौन से रो मटेरियल की आवश्यकता पड़ने वाली है तो इसमें लगने वाले रूम मटेरियल की संपूर्ण जानकारी निम्नलिखित है /-

(i) पारदर्शी शीशे की बौनी शीशे (transparent glass dwarf glass):-

यदि आप यह सोच रहे हैं कि पारदर्शी शीशे की बौनी शीशे एक प्रकार का शीशा होता है तो आप गलत है क्योंकि यह एक प्रकार का उच्च गुणवत्ता वाला प्लास्टिक होता है जो पारदर्शी और दृष्टिशोधक गुणों के लिए जाना जाता है इस चीज का उपयोग आमतौर पर फूलों के आकार और रूपांतरण के लिए किया जाता है तथा शीशों के अंदर से फूलों की डालियों और पत्तियों को बनाने के लिए काटा जाता है|

(ii) धातु के तार (metal wire):-

यदि आप यह सोच रहे हैं कि भला आर्टिफिशियल फ्लावर को बनाने के लिए धातु के तारों की क्या आवश्यकता है तो हम आपको बताना चाहेंगे कि धातु के तारों का उपयोग आमतौर पर इन फूलों की डालीयों और पत्तियों को बनाने के लिए उपयोग मैं लाया जाता है| इन धातु के तार के कारण यह फूल काफी मजबूत तथा टिकाऊ होते हैं जिस कारण यह फूल जल्दी टूटते भी नहीं|

(iii) फोम शीट (foam sheet):-आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस

यदि आपको नहीं पता है कि फोम शीट क्या होता है तुमको बताना चाहेंगे कि यह एक प्रकार का पॉलिमरिक बैंड होता है जो कि उत्थान प्रणाली द्वारा बनाया जाता है फोम शीट का उपयोग सामान्यतः छोटे उत्पादों को बनाने के लिए उपयोग में लाया जाता है इस कारण फोम शीट का उपयोग आर्टिफिशियल फ्लावर को बनाने के लिए भी जरूरी होता है| फोम शीट का उपयोग आर्टिफिशियल फ्लावर के अलावा और भी कई चीजों में उपयोग में लाया जाता है|

(iv) कपड़े के टुकड़े (pieces of cloth):-

आर्टिफिशियल फ्लावर को बनाने के लिए आपको इसमें कपड़े के टुकड़ों का भी उपयोग करना होगा इन कपड़ों के टुकड़ों का उपयोग ज्यादातर फूलों के भीतरी भाग के लिए उपयोग में लाया जाता है| इन कपड़ों के टुकड़ों के लिए आप चाहे तो मार्केट से किसी बड़े कपड़े का चयन कर सकते हैं जिसके आप छोटे-छोटे टुकड़े कर कर अपने फूल की मैन्युफैक्चरिंग को स्टार्ट कर सकते हैं|

(v) प्लास्टिक के फूलों के भीतर धातु का समीकरण (The equation of metal within plastic flowers):-

यदि हम किसी भी प्रकार के प्रोडक्ट की मैन्युफैक्चरिंग करते हैं तो लोग उसको सिर्फ तभी खरीदते हैं जब आपके द्वारा बनाया गया प्रोडक्ट अच्छी क्वालिटी का हो तो था वह मजबूत हो जिससे कि वह ज्यादा समय तक चले इसलिए यदि आप चाहते हैं कि आपके द्वारा बनाए गए फूल की मजबूती अच्छी हो तो इसके लिए आपको प्लास्टिक के फूलों के भीतर धातु के समीकरण को भरना होगा जिससे कि आप के फूल की मजबूती बनी रहेगी|

(vi) रेशम का धागा (silk thread):-आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस

आर्टिफिशियल फूल को बनाने के लिए रेशम के धागे की भी आपको आवश्यकता पड़ेगी जिसका उपयोग आपके द्वारा बनाए गए फूलों को बांधने के लिए किया जाएगा आपके मन में एक सवाल अवश्य आया होगा कि हम सिर्फ रेशम के धागे का उपयोग बांधने के लिए क्यों करें तो हम आपको बता दें कि यदि आप इस धागे का उपयोग करते हैं तो आप का फूल एक असली फूल के समान दिखता है इसलिए आप चाहे तो रेशम के धागे का उपयोग कर सकते हैं|

(vii) फ्लोरिस्टिक टेप (floristic tape):-

यदि आपको नहीं पता है कि फ्लोरिस्टिक टेप टॉप क्या होता है तो हम आपको बताना चाहिए कि यह एक विशेष प्रकार का टेप होता है जिसका उपयोग फूलों के ढांचे को टिकाने के लिए किया जाता है यह टेप एक विशेष प्रकार की कपड़े के समान ही होता है जो कि लंबे स्तंभों और फूलों को बांधने के लिए काफी ज्यादा उपयोग में लाया जाता है|

रो मटेरियल कहां से खरीदें [Where to buy row material]

जब हम आर्टिफिशियल फ्लावर के बिजनेस को शुरू करने के लिए उसमें लगने वाले रो मटेरियल की बात कर रहे थे तब आपके मन में एक सवाल तो आया ही होगा कि हम इन सभी रो मटेरियल को भला कहां से खरीदेंगे यह सभी हमें कहां पर देखने के लिए मिल सकते हैं यदि आपके मन में ऐसा कोई सवाल आया है तो हम आपको बताना चाहेंगे कि आप आर्टिफिशियल फ्लावर के लिए रो मटेरियल को दो माध्यमों से खरीद सकते हैं जिनकी जानकारी आपको निम्नलिखित प्रदान की गई है /-

(i) ऑनलाइन खरीदें (buy online):-

आर्टिफिशियल फ्लावर को खरीदने के लिए पहला माध्यम ऑनलाइन माध्यम आप रो मटेरियल को ऑनलाइन खरीद सकते हैं जिसके लिए आप ऑनलाइन इन कॉमर्स साइट जैसे कि अमेजॉन फ्लिपकार्ट मिशु आदि पर विजिट कर सकते हैं तथा वहां पर अपने मनचाहे व्यापारी से रो मटेरियल को खरीद सकते हैं आपको इन साइटों पर विभिन्न प्रकार के फूलों के विकल्पों की श्रंखला देखने के लिए मिल जाएगी जहां से आप डायरेक्ट फूल खरीद कर भी अपने बिजनेस को स्टार्ट कर सकते हैं|

(ii) ऑफलाइन खरीदें (buy offline):-

आप चाहे तो इस मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस में लगने वाले रॉ मैटेरियल को ऑफलाइन भी खरीद सकते हैं ऑफलाइन खरीदने के लिए आप किसी बड़ी मार्केट को विजिट कर सकते हैं यदि हम भारत की बात करें तो यदि आप भारत के रहने वाले हैं तब आप भारत की सबसे बड़ी होलसेल मार्केट यानी कि दिल्ली सदर बाजार मार्केट में जा सकते हैं जहां पर आप किसी भी प्रोडक्ट को होलसेल में खरीद कर उसका बिजनेस शुरू कर सकते हैं|

लगने वाली मशीन [fitting machine]-आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस

आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस

यदि हम किसी प्रकार की मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस को स्टार्ट करते हैं तो उसने हमें किसी ना किसी प्रकार की मशीन की आवश्यकता तो पड़ती ही है जिसकी मदद से हम अपने बिजनेस को स्टार्ट करते हैं इसी प्रकार आपको आर्टिफिशियल फ्लावर को बनाने के लिए भी कुछ मशीनों की आवश्यकता पड़ने वाली है जिनकी आपको संपूर्ण जानकारी निम्नलिखित हमारे द्वारा प्रदान की जा रही है /-

(i) मोल्डिंग मशीन (molding machine):-

अधिकतर लोगों को मोल्डिंग मशीन के बारे में जानकारी नहीं है तो हम उन्हें बताना चाहेंगे कि यह मशीन ग्रोवर के रूप को बनाने के लिए प्लास्टिक और अन्य सामग्री को आवश्यक आकाश के लिए उपयोगी होती है इस मशीन का कार्य फूल के अनुकूल आकार को तय करना तथा यह सुनिश्चित करना होता है कि वह एक निश्चित आकार और उचित ढंग से बने हैं या नहीं|

(ii) कटिंग मशीन (cutting machine):-

कटिंग मशीन आप इसके नाम से ही समझ गए होंगे कि इस मशीन का कार्य काटना है दरअसल यही एक ऐसी मशीन है जो कि फूल को बनाने के लिए प्रत्येक सामग्री को उसके आवश्यक आकार के टुकड़ों में काटती है| यह मशीन इस बात को सुनिश्चित करती है कि मैन्युफैक्चर किए गए सभी फ्लावर एक समान आकार के है या फिर नहीं|

(iii) आभूषण मशीन (jewelry machine):-

यदि आप कभी किसी आर्टिफिशियल फूलों की दुकान में जाते हैं तो आपको वहां पर कुछ ऐसे फूल अवश्य देखने के लिए मिल जाएंगे जिनकी सजावट करने के लिए आभूषणों का उपयोग किया जाता है जोकि फूल को एक खास लुक प्रदान करते हैं इसलिए आप अपने फूलों को आभूषणों से सजाने के लिए एक विशेष प्रकार की मशीन यानी कि आभूषण मशीन का उपयोग कर सकते हैं|

(iv) रंगाई मशीन (dyeing machine):-

यदि आपके द्वारा बनाए गए फूल पर की गई रंगाई एकदम असली फूल की तरह ही प्रतीत होती है तब आपके द्वारा बनाए गए फूल काफी बड़ी मात्रा में बिक सकते हैं इसलिए आप अपनी मैन्युफैक्चरिंग के लिए चाहे तू एक रंगाई मशीन की खरीदारी भी कर सकते हैं जिसका कार्य आर्टिफिशियल फूलों को रंग देने का होता है इस मशीन के द्वारा फूलों को विभिन्न रंगों के द्वारा सजाया जाता है|

(v) पैकेजिंग मशीन (packaging machine):-

आप चाहे किसी भी प्रकार की वस्तु की मैन्युफैक्चरिंग करते हैं उसमें से अधिकतर वस्तुओं की मैन्युफैक्चरिंग मैं आपको उस वस्तु को पैक करने की आवश्यकता होती है इसलिए यदि आप अपने आर्टिफिशियल फूलों को पैक करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको एक विशेष प्रकार की पैकेजिंग मशीन की आवश्यकता पड़ेगी जो कि उन्हें एक निश्चित संख्या में पैक करने में आपकी मदद करेगी इसके अलावा इस मशीन का उपयोग ट्रांसपोर्ट करने के लिए भी किया जाता है|

कुल निवेश [total investment]

हम किसी प्रकार के व्यापार को स्टार्ट करने की सोचते हैं तो उसमें हमारे मन में सबसे पहला जो सवाल आता है वह होता है कि इसमें हमें कुल कितने इन्वेस्टमेंट करने की आवश्यकता पड़ने वाली है यदि आपके मन में भी ऐसा ही कोई सवाल आया है तो हम आपको बताना चाहिए कि इस व्यापार में आपको लगने वाला इन्वेस्टमेंट कोई निश्चित नहीं है यह विभिन्न तत्वों पर निर्भर करता है जैसे कि यह भेजने से बड़ी मध्यम या छोटी स्केल पर किया जा रहा है तथा देश व शहर के अनुसार भी अलग अलग हो सकती है|

यदि आप अपने आर्टिफिशियल व्यापार को बड़े स्तर पर शुरू कर रहे हैं तब आपको इसमें प्रॉफिट ज्यादा मिलेगी परंतु यदि हम इस में होने वाले निवेश की बात करें तो इसमें आपको लगभग दो से तीन लाख रुपए का इन्वेस्टमेंट करने की आवश्यकता पड़ सकती है| तथा यदि हम इस बिजनेस को मध्यमवर्ग से स्टार्ट करने जा रहे हैं इसमें आपको लगभग ₹100000 के इन्वेस्टमेंट की आवश्यकता पड़ सकती है|

अब आपके मन में यह सवाल तो आया होगा कि यदि हम अपने व्यापार को थोड़े छोटे स्तर पर शुरू कर रहे हैं तब हमें इसमें कितनी निवेश की आवश्यकता पड़ेगी अगर हम छोटे स्केल पर लगने वाले निवेश की बात करें तो यह निवेश 50000 से 60,000 के बीच में हो सकती है|

NOTE:- हमने जो आपको ऊपर निवेश की जानकारी दी है वह काफी हद तक सही हो सकती है क्योंकि जैसे कि हमने आपको पहले बताया है कि इसमें लगने वाला इन्वेस्टमेंट कोई निश्चित नहीं होता है यह विभिन्न तत्वों के आधार पर अलग अलग होता है|

आर्टिफिशियल फूल कैसे बनाएं [How to make artificial flowers]

यदि हम आर्टिफिशियल फूल को बनाने के तरीके की बात करें तो हम आपको बताना चाहेंगे कि इसको बनाने का कोई एक तरीका नहीं है क्योंकि आप इसको विभिन्न तकनीकों की मदद से बना सकते हैं जैसे कि मोल्डिंग, कटिंग, स्क्रेपिंग, एटेम्प्टिंग, वायरिंग, एट्चिंग, पेपर मैचे आदि यह तकनीकी आर्टिफिशियल फूलों को वास्तविक फूल जैसा दिखाने में काफी ज्यादा मदद करती हैं|

आर्टिफिशियल फूल को बनाने के लिए निम्नलिखित तरीकों का उपयोग कर सकते हैं /-

(i) सिल्क फ्लावर्स (silk flowers):-

जब भी हम या फिर कोई अन्य व्यक्ति सिल्क फ्लावर का नाम सुनता है तो उसे इसकी उपलब्धता दिखाई देती है इन फूलों के नायलॉन या रेयॉन से बने पतले एवं लचीले पेटल होते हैं| जो कि एक सिल्की धागे के साथ जुड़े होते हैं फूलों को आप सामान्यता उच्च गुणवत्ता वाली दुकानों मैं देख सकते हैं जोकि इन फूलों की बिक्री करते हैं|

(ii) पेपर फ्लावर्स (paper flower):-

यदि आप पेपर से बने फूलों का निर्माण करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको लंबे टिशू पेपर या फिर क्रेप पेपर की आवश्यकता पड़ेगी जिसमें आपको एक छोटे साइज की वस्तु के लिए कटिंग मशीन का उपयोग करना पड़ेगा यह आपके फूलों के पेटल के आकार में टिश्यू पेपर या फिर क्रेप पेपर को काटेगा जब आप एंड पेटल को संग्रह करने के लिए धातु या प्लास्टिक की शाखाओं का उपयोग करेंगे उसके बाद आपको फूलों के संग्रह के बाद उन्हें रंग से सजाना होगा या फिर पेपर मचे और सिमर आदि से सजाना होगा|

(iii) प्लास्टिक फ्लावर्स (plastic flowers):-

आप जब भी मार्केट में जाएंगे तब आपको ज्यादातर आर्टिफिशियल फूल प्लास्टिक के ही देखने के लिए मिलेंगे इसलिए प्लास्टिक के फूलों का निर्माण धर्मो प्लास्टर किया विभिन्न प्रकार के प्लास्टिक से किया जाता है सबसे पहले इन्हें मोल्डिंग तकनीक का इस्तेमाल करके बनाया जाता है जिसमें लिक्विड प्लास्टिक को मोल्ड में डालकर उसे सेट किया जाता है आप चाहें तो इन फूलों को हाथ से ही पेंट कर सकते हैं जिसमें आपका निवेश कम हो जाएगा|

(iv) मेटल फ्लावर्स (metal flowers):-

अब बात करते हैं मेटल फ्लॉवर्स की फ्लॉवर्स का निर्माण धातु पिटल लोहे तथा सोने से किया जाता है आमतौर पर इन फूलों का निर्माण हाथ के द्वारा ही किया जाता है तथा उसके पश्चात उन्हें धातु की शाखाओं पर लगा दिया जाता है इन फूलों को फूलों की तरह ही धूम्रपान करके या स्प्रे पेंट करके सजाया जाता है जो कि बाद में यह देखने में काफी ज्यादा नेचुरल तथा सुंदर भी लगते हैं|

NOTE:- जब आप हमारी द्वारा बताई गई जानकारी को अच्छे से पढ़ ले तब एक बार जरूर यूट्यूब पर इसकी मैन्युफैक्चरिंग वीडियो को अवश्य देखें इसमें आपको इसकी मैन्युफैक्चरिंग के बारे में संपूर्ण जानकारी बताई गई हो|

आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस कैसे शुरू करें? [How to start artificial flower business?]

इन सभी बातों को जानकर आपके मन में यदि यह विचार आया हूं कि हम आर्टिफिशियल फ्लावर के व्यापार को किस प्रकार से स्टार्ट कर सकते हैं इसकी क्या प्रक्रिया है तो अब हम ऐसी चीज के बारे में बात करने जा रहे हैं कि आर्टिफिशियल फ्लावर के व्यापार को शुरू करने की क्या प्रक्रिया है तथा ऐसे कोई व्यक्ति किस प्रकार से स्टार्ट कर सकता है यदि हम आर्टिफिशियल फ्लावर की व्यापार को शुरू करने के तरीके की बात करें तो इसको आप 2 तरीकों से स्टार्ट कर सकते हैं जोकि निम्नलिखित हमारे द्वारा आपको बताए गए हैं /-

1. ऑफलाइन शुरू करें (start offline):-आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस

आर्टिफिशियल फ्लावर के व्यापार को शुरू करने का सबसे पहला तरीका है ऑफलाइन तरीका इसमें आप अपने व्यापार को शुरू करते हैं तथा आप अपने व्यापार को अच्छी तरीके से चलाते हैं तब आप अपने आसपास की काफी बड़े क्षेत्र तक अपने माल को बेच पाएंगे तथा अच्छा मुनाफा भी कमा पाएंगे ऑफलाइन व्यापार को शुरू करने के लिए आप निम्नलिखित चरणों का पालन कर सकते हैं /-

(i) व्यापार योजना तैयार करें (prepare business plan):

ऑफलाइन व्यापार को शुरू करने में सबसे पहला आपका कदम है अपने व्यापार की एक संपूर्ण योजना को तैयार करना जो कि आपके व्यापार के लिए काफी ज्यादा महत्वपूर्ण है इसमें आपको अपने व्यापार के लक्ष्य, नीतियों, आर्थिक प्रबंध, विपणन की रणनीति तथा लाभ मार्जिन आदि के बारे में स्पष्टता के साथ संपूर्ण जानकारी को प्राप्त कर लेना है|

(ii) स्थान चुनें (select location):

अब आपको एक सही स्थान का चयन करने की आवश्यकता है जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया है कि एक सही स्थान का लोकेश आपके व्यापार पर कितना ज्यादा प्रभाव डालता है तथा उसी में हमने आपको सही स्थान के चुनने की जानकारी भी प्रदान की है इसलिए यदि आपने वह अभी तक नहीं पड़ा है तो सबसे पहले उसको पढ़ें तथा उसके बाद आगे बढ़े|

(iii) सभी रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस प्राप्त करें (Get all registrations and licenses):

उसके पश्चात आपको इस व्यापार को शुरू करने के लिए इस में लगने वाले सभी रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस को प्राप्त कर लेना है जो कि व्यापार को शुरू करने के लिए सबसे जरूरी होती है अब आपके मन में यह आया होगा कि इसमें हमें कौन-कौन से रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस की आवश्यकता है तथा अभी तक हमने आपको इसकी जानकारी नहीं दी है तो हम आपको बताना चाहेंगे कि इसके नीचे हमने आपको इसके बारे में बता कर रखा है जिसको आप इसके बाद पढ़ सकते हैं

(iv)) रो मटेरियल तथा सामान खरीदें (buy row materials and accessories):

अब आपको उसमें आवश्यक सभी रो मटेरियल को थोड़ी-थोड़ी मात्रा में खरीद लें तथा उसके साथ ही साथ आपको उसमें लगने वाली मशीनों को भी खरीद लेना है जिनको खरीदने के लिए आप चाहे तो भारत की सबसे बड़ी होलसेल मार्केट यानी कि सदर बाजार मार्केट में जा सकते हैं जहां पर आपको इससे संबंधित सभी सामान देखने के लिए मिल जाएंगे|

(v) कर्मचारियों को काम पर रखें (hire employees):

इसके पश्चात आपको कुछ कर्मचारियों को काम पर रख लेना है यदि आपके पास इस वक्त इतना इन्वेस्टमेंट नहीं है कि आप कर्मचारियों को काम पर रख सके तब आप शुरुआत में खुद ही अकेले अपने व्यापार को शुरू कर सकते हैं तथा जब आपकी प्रॉफिट आनी शुरू हो जाए तब आप कर्मचारियों को काम पर अवश्य रखें क्योंकि इसमें आपको काफी ज्यादा मेहनत करने की आवश्यकता पड़ने वाली है|

(vi) प्रोडक्ट तैयार करें (prepare product):

अब आपको आर्टिफिशियल फ्लावर को तैयार कर लेना है यदि आपको इस फ्लावर को बनाने की जानकारी नहीं है तो हमने आपको ऊपर इसके बनाने की प्रक्रिया बताई है यदि फिर भी आपको यह प्रक्रिया अच्छे से नहीं समझ में आई है तब आप किसी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे कि यूट्यूब पर वीडियो देख कर इसे अच्छी तरीके से समझ सकते हैं|

(vii) प्रोडक्ट पैक करें (pack the product):

अब आपका कार्य है अपने द्वारा मैन्युफैक्चर किए गए आर्टिफिशियल फ्लावर को पैक करना जिसके लिए आप एक पैकिंग मशीन को खरीद सकते हैं या फिर आप चाहे तो खुद भी अपने हाथों से उसको पैक कर सकते हैं ध्यान रहे कि आपको अपने फूल के पैकिंग पॉलिथीन पर अपनी कंपनी का एक चिप्पा जरूर छपवा देना है जिससे कि यदि उन्हें आपके प्रोडक्ट पसंद आते हैं तो वह आपसे ही उसको खरीदें|

(viii) प्रोडक्ट बेचे (sell products):

जब आप अपने प्रोडक्ट को अच्छे से बनाकर तैयार कर ले उसके पश्चात आपको होलसेलर से कांटेक्ट कर लेना है जो कि आर्टिफिशियल फ्लावर को बेचते हैं तथा आप उनको आर्टिफिशियल फूल बड़ी मात्रा में बेच सकते हैं इसके अलावा आप चाहे तो अपने प्रोडक्ट को ऑनलाइन भी इकॉमर्स साइट पर बेच सकते हैं बेच सकते हैं जो कि आर्टिफिशियल फ्लावर को बेचने का दूसरा तरीका है|

2. ऑनलाइन शुरू करें (start online):-

अपने प्रोडक्ट को सेल करने का सबसे अच्छा तरीका है ऑनलाइन व्यापार को शुरू करना क्योंकि यदि आप अपने व्यापार को ऑनलाइन शुरू करते हैं तब आपके प्रोडक्ट को पूरा भारत खरीदता है जिससे आपकी प्रॉफिट भी काफी ज्यादा बढ़ जाती है इसलिए आप चाहें तो अपने व्यापार को ऑनलाइन शुरू कर सकते हैं कई लोग यह सोचते हैं कि ऑनलाइन व्यापार करना कठिन है परंतु ऐसा नहीं है क्योंकि ऑनलाइन व्यापार कोई भी व्यक्ति आराम से शुरू कर सकता है यदि आप भी ऑनलाइन व्यापार को शुरू करना चाहते हैं तो इसके लिए आप निम्नलिखित तरीके का उपयोग कर सकते हैं /-

(i) प्रोडक्ट तैयार करें (prepare product):

सबसे पहला आपका कार्य है अपने प्रोडक्ट को तैयार करना इसके लिए आपको ऑफलाइन तरीके मैं बताए गए एक से लेकर 7 चरणों का पालन करना है जिसमें आपको शुरुआत से लेकर आखरी तक प्रोडक्ट को तैयार करके तथा पैक करने के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान की गई है उसके पश्चात आपको हमारे द्वारा बताए गए ऑनलाइन बिजनेस के आगे के तरीकों का अध्ययन करना है|

(ii) ऑनलाइन सेलर बने (become an online seller):

अगर आप ऑनलाइन सेलर बनने के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो इसके लिए कुछ डॉक्यूमेंट की आवश्यकता होती है जैसे कि जीएसटी अनिवार्य इसके बगैर आप ऑनलाइन सैलरी नहीं बन सकते दूसरी सबसे बड़ी बात इसके लिए आपके पास एक बैंक अकाउंट होना जरूरी है और आपका मोबाइल नंबर जिससे आपने ऐप में लॉगिन किया हुआ है वह मोबाइल नंबर भी जरूरी है इसके द्वारा आप आसानी से ऑनलाइन सेलर के लिए आवेदन कर सकते हैं चाहे आप अमेजॉन या फ्लिपकार्ट किसी भी वेबसाइट पर as a seller रजिस्टर कर रहे हो|

अमेजॉन सेलर अकाउंट कैसे बनाएं?

(iii) प्रोडक्ट को बेचे (sell the product):

जब आप अपने प्रोडक्ट को तैयार करके अच्छे से पैक कर दे तथा किसी ई-कॉमर्स साइट पर सेलर अकाउंट को बना लेते हैं उसके पश्चात आपका ऑनलाइन सामान बेचने का कार्य खत्म हो जाता है उसके पश्चात आप ऑनलाइन अपने सामान को आराम से बेच सकते हैं तथा एक अच्छी प्रॉफिट भी ऑनलाइन कमा सकते हैं|

आवश्यक डॉक्यूमेंट और लाइसेंस [Required Documents and License]

यदि हम किसी भी प्रकार की व्यापार को स्टार्ट करते हैं तो उसमें हमें किसी ना किसी प्रकार के लाइसेंस तथा डॉक्यूमेंट की आवश्यकता तो पड़ती ही है फिर चाहे हम किसी भी प्रकार के व्यापार को स्टार्ट करें इसी प्रकार यदि आप आर्टिफिशियल फ्लावर के व्यापार को स्टार्ट करते हैं तो इसमें भी आपको कुछ डाक्यूमेंट्स का लाइसेंस की आवश्यकता पड़ेगी जिनके बिना आप अपने व्यापार को शुरू नहीं कर पाएंगे|

आर्टिफिशियल फ्लावर के व्यापार को शुरू करने के लिए लगने वाले दस्तावेज निम्नलिखित हैं /-

(i) व्यापार पंजीकरण (business registration):-आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस

आप चाहे किसी भी प्रकार के व्यापार को स्टार्ट करें आपको उसने व्यापार पंजीकरण लेने की आवश्यकता तो पड़ती ही है इसलिए आपको आर्टिफिशियल फ्लावर के व्यापार को शुरू करने के लिए भी अपने व्यापार को पंजीकृत करवाने की आवश्यकता पड़ेगी जिसके लिए आप स्थानीय नगर पालिका या नगर निगम में जाकर आवेदन कर सकते हैं वहां पर आपको इसको प्राप्त करने की संपूर्ण जानकारी मिल जाएगी|

(ii) व्यापार नाम पंजीकरण (trade name registration):-

जैसा कि हमने आपको पहले बताया है कि आपको अपने व्यापार को शुरू करने के लिए एक अच्छे से नाम की आवश्यकता पड़ेगी जो कि आपके व्यापार का नाम होगा तथा आपको अपने व्यापार के नाम को पंजीकृत करवाने की भी आवश्यकता पड़ेगी जिसके लिए आप चाहे तो अपने स्थानीय व्यापार पंजीकरण अधिकारी से संपर्क कर सकते हैं जो कि आपके इस कार्य में आपकी मदद करेगा|

(iii) जीएसटी पंजीकरण (Goods And Services Tax Registration and GST Registration):-

चाहे आप किसी भी प्रकार के व्यापार को स्टार्ट करें यदि उस व्यापार में आपका वार्षिक कारोबार एक निश्चित सीमा से अधिक है तब आपको भारत में वस्तु एवं सेवा कर जीएसटी के लिए पंजीकरण करवाना आवश्यक होगा पंजीकरण प्रक्रिया के बारे में यदि आपको ज्यादा जानकारी प्राप्त नहीं है तब इसके लिए आप अपने स्थानीय जीएसटी कार्यालय में जाकर उनसे संपर्क कर सकते हैं तथा इसकी संपूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते हैं|

(iv) आयकर पंजीकरण (income tax registration):-

यदि आप अपने आर्टिफिशियल फ्लावर के व्यापार को शुरू करने जा रहे हैं जब आपको अपने व्यापार के लिए आयकर पंजीकृत होने की आवश्यकता पड़ेगी यदि आपको इसके बारे में अधिक जानकारी नहीं है तब आप अपने स्थानीय आयकर विभाग में जाकर इसकी अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं या फिर आपको ऑनलाइन भी इसकी जानकारी मिल जाएगी जिसको आप पढ़ कर अपने बिजनेस को शुरू कर सकते हैं|

(v) पर्यावरण अनुमतिपत्र (environment permit):-

यदि आप अपने आर्टिफिशियल फ्लॉवर्स को निर्माण तथा बेचना चाहते हैं तब इसके लिए आपको पर्यावरण अनुमति पत्र लेने की आवश्यकता पड़ेगी जो कि पर्यावरण के हित के लिए उपयोगी है अनुमति पत्र के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप अपने स्थानीय प्रशासनिक निकाय में जाकर उनसे इसकी संपूर्ण जानकारी को प्राप्त कर सकते हैं वहां पर आपको इसकी संपूर्ण जानकारी मिल जाएगी|

(vi) अन्य डॉक्यूमेंट्स (other documents):-आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस

इसके अलावा आपको निम्नलिखित कुछ और डॉक्यूमेंट की आवश्यकता पड़ेगी /-

  • आपके बैंक खाते के बारे में जानकारी
  • बिजनेस प्लान
  • प्रतिस्पर्धा विश्लेषण
  • निवेश योजना
  • व्यापार के लिए वित्तीय योजना

NOTE:- हमने ऊपर जो आपको डोकोमेंट की जानकारी प्रदान की है वे सभी ज्यादातर राज्यों तथा प्रदेशों में मांगी जाती है इसके अलावा यह आपके राज्य या प्रदेश के हिसाब से अलग-अलग हो सकते हैं इसलिए अपने व्यापार को शुरू करने से पहले या लाइसेंस लेने से पहले अपने प्रदेश की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर जरूरी डॉक्यूमेंट और रजिस्ट्रेशन को अवश्य पढ़ें ले|

अपने बिजनेस का विज्ञापन [advertise your business]

आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस

आज के समय में हर व्यक्ति यह बात अच्छे से समझता है कि यदि हमें किसी व्यापार को चलाना है तो उसके लिए हमें उसको विज्ञापन करना काफी ज्यादा आवश्यक है जब तक हम अपने व्यापार का विज्ञापन नहीं करेंगे तब तक उस व्यापार मैं हमको ज्यादा प्रॉफिट देखने के लिए नहीं मिलेगी इसलिए यदि आप अपने आर्टिफिशियल फ्लावर के व्यापार का विज्ञापन करना चाहते हैं तथा आपको इसके तरीकों की जानकारी नहीं है तब आप निम्नलिखित तरीको का उपयोग कर सकते हैं /-

(i) व्यापार के पर्चे बटवा कर (by distributing business leaflets):-

अपने व्यापार की जानकारी ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाने का यानी कि विज्ञापन करने का सबसे पहला तरीका है कि अपने व्यापार के बारे में लिखे गए या बनाए गए पर्चों को बटवा देना| ध्यान रहे कि आपको इन पर्चों में अपने व्यापार के बारे में संपूर्ण जानकारी देनी है कि आप कितने में अपना माल बेचते हैं आपका फोन नंबर क्या है इत्यादि प्रकार की आपको सभी जानकारी उसमें दे देनी है|

(ii) पर्चे छपवाए (printed pamphlets):-आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस

आपने अक्सर अलग-अलग जगहों पर छोटे से छोटे व्यापारी तथा बड़े से बड़े व्यापारी के पर्चो को छपा हुआ अवश्य देखा होगा अगर आप इस चीज को अच्छे से समझे तब आपको इस बात की जानकारी होगी कि यह अपने व्यापार को चलाने का काफी अच्छा मार्ग है जिससे कि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक आपकी व्यापार की जानकारी पहुंचती है तथा वे आपके माल को अवश्य खरीदते हैं|

(iii) सोशल मीडिया का उपयोग करें (use social media):-

आज के समय में बड़े से बड़े व्यापारी से लेकर छोटे से छोटे व्यापारी तक अपने व्यापार को विज्ञापित करने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग कर रहे हैं उनका काम होता है कि अपने व्यापार के वीडियो बनाकर अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक ही अकाउंट में पब्लिश कर देना जिससे कि उनका व्यापार का विज्ञापन भी होगा तथा साथ ही साथ उन प्लेटफार्म के जरिए भी उनकी कमाई होगी आप भी चाहे तो सोशल मीडिया का उपयोग करके अपने व्यापार का विज्ञापन कर सकते हैं|

(iv) गूगल ऐडसेंस के जरिए (via google Adsense):-

दोस्तों जो भी व्यक्ति यूट्यूब पर वीडियो बनाता है या फिर ब्लॉगिंग करता है तब उसको इस बात की जानकारी तो अवश्य ही होगी कि गूगल ऐडसेंस किसे कहते हैं पर आपको क्या इस बात की जानकारी है कि आप गूगल ऐडसेंस के जरिए भी अपने व्यापार का विज्ञापन कर सकते हैं गूगल ऐडसेंस एक ऐसा प्लेटफार्म है जहां पर आप रुपए देकर अपने व्यापार का विज्ञापन कर सकते हैं तथा आज के समय में बड़े से बड़े व्यापारी इसका उपयोग करके अपने व्यापार का विज्ञापन करते हैं इसलिए आप इसका उपयोग एक बार जरूर करें|

आर्टिफिशियल फ्लावर के व्यापार में प्रॉफिट [Profit in artificial flower business]

यदि कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रकार के व्यापार या फिर नौकरी को करने के बारे में सोचता है तो फिर वह सबसे पहले उसमें एक ही बात को सोचता है कि इसमें भला में कितनी प्रॉफिट होने वाली है तथा आपने भी इस पोस्ट को पढ़ने से पहले इसी चीज के बारे में सोचा होगा कि इसमें हमें कितनी प्रॉफिट होगी तो अब हम आपको इसी बात के बारे में जानकारी देने वाले हैं कि आर्टिफिशियल फ्लावर के व्यापार में आपको कितनी प्रॉफिट देखने के लिए मिलेगी|

आर्टिफिशियल फ्लावर के व्यापार में होने वाली प्रॉफिट की बात करें तो इसमें होने वाली प्रॉफिट कोई निश्चित नहीं होती है क्योंकि इसकी प्रॉफिट विभिन्न कारणों पर निर्भर करती है जिसकी बिक्री के लिए आपका चयनित बाजार उत्पाद की गुणवत्ता मूल्य निर्धारण बिक्री वॉल्यूम तथा व्यय आदि आपके व्यापार में होने वाली प्रॉफिट पर प्रभाव डालते हैं| कुछ लोग यह सोचते हैं कि हम अपने प्रोडक्ट पर ज्यादा मूल्य रख दें तब हमको ज्यादा कमाई होगी पर यह बात बिल्कुल गलत है क्योंकि यदि आप अपने प्रोडक्ट को कम कीमत पर बेचते हैं तब आपका प्रोडक्ट काफी बड़ी मात्रा में बिकना चालू हो जाएगा जिससे कि आपकी ज्यादा प्रॉफिट होगी|

उदाहरण (Example):-

उदाहरण के लिए यदि एक कंपनी है जो कि आर्टिफिशियल फूल बनाती है तथा अपने हर फूल को लगभग 50 रुपए में बेचती है जबकि उस फूल को बनाने में लगने वाली लागत ₹20 है तब उसका होने वाला मार्जन ₹30 होगा इसके अलावा बिक्री वॉल्यूम को भी ध्यान में रखना जरूरी है क्योंकि बिक्री के ज्यादा होने से आप अधिकतम लाभ कमा सकते हैं|

इसलिए हम यह कह सकते हैं कि आर्टिफिशियल फ्लावर के बिजनेस में जो प्रॉफिट का अंतिम निर्धारण होता है वह आपके उत्पाद की गुणवत्ता मूल्य निर्धारण बिक्री वॉल्यूम और बाजार वॉल्यूम जैसे कई मुख्य कारणों पर निर्भर करता है इसलिए आप इस व्यापार आपको आर्टिफिशियल फ्लावर के व्यापार में काफी अच्छा प्रॉफिट देखने के लिए मिल जाएगा|

यह भी अवश्य पढ़ें:-आर्टिफिशियल फ्लावर बिजनेस

A4 पेपर का बिजनेस कैसे शुरू करें

ऑनलाइन बैंक खाते को सुरक्षित रखने की 8 युक्तियां

गांव में पैसे कैसे कमाए

महिलाओं के लिए बिजनेस लोन का विकल्प