बाइक इंडिकेटर होलसेल बिजनेस कैसे शुरू करें? सबसे आसान तरीका

बाइक इंडिकेटर होलसेल बिजनेस कैसे शुरू करें? सबसे आसान तरीका

बाइक इंडिकेटर होलसेल बिजनेस शुरू करके कमाए हर महीने 2 लाख रुपए से ज्यादा- इंडिकेटर  होलसेल बिजनेस कैसे करें- बाइक इंडिकेटर का बिजनेस आज के समय का सबसे अच्छा बिजनेस है आप देखते होंगे कि जितनी भी बाइक होती हैं प्रत्येक बाइक में चार इंडिकेटर होते हैं आप देखते होंगे कभी आगे का इंडिकेटर टूट जाता है कभी पीछे का इंडिकेटर टूट जाता है तभी लेफ्ट साइड का टूट जाता है तो कभी राइट साइड का टूट जाता है

bike के इंडिकेटर सबसे ज्यादा ही टूट जाते हैं और जब इंडिकेटर टूट जाते हैं तो आपको उसकी जगह नए इंडिकेटर लेने होते हैं जो काफी महंगे होते हैं हर कोई चाहता है|

  कि उसकी बाइक के इंडिकेटर कभी भी ना टूटे पर सभी बच्चों की गलती के कारण सभी बाइक से गिर जाने के कारण तो कभी बाइक के कहीं टकरा जाने पर इंडिकेटर सबसे पहले ही टूट जाते हैं इसलिए मार्केट में बाइक इंडिकेटर की मांग दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है अगर आप भी बाइक इंडिकेटर का बिजनेस शुरू करेंगे तो काफी अच्छी सॉफ्ट ले सकते हैं |

बाइक इंडिकेटर होलसेल प्राइस

 bike auto parts business बाइक के इंडिकेटर की मार्केट में 2 से 3 प्राइस रेंज होती है अगर आप मार्केट में सर्च करेंगे तो देखेंगे कि हर कंपनी के अलग रेट है और उनकी क्वालिटी में कुछ ज्यादा फर्क नहीं होगा कुछ इंडिकेटर कलर फीका होने के कारण सस्ते होते हैं |

कुछ इंडिकेटर क्वालिटी खराब होने के कारण सस्ते होते हैं और कुछ इंडिकेटर की क्वालिटी अच्छी होती है और वह फ्लैक्सिबल होते हैं इसलिए वह काफी महंगे होते हैं  मुख्य रूप से इंडिकेटर दो प्रकार के होते हैं-

लोकल ब्रांड-bike auto parts business-   

  1. मार्केट में एक लोकल ब्रांड का इंडिकेटर होता है जो कि मुख्य रूप से प्रत्येक दुकान पर मिल जाएगा और यह इंडिकेटर काफी सस्ता होता है और जल्दी टूटने वाला होता है अगर आप यह इंडिकेटर होलसेल मार्केट से खरीदते हैं जैसे कि दिल्ली की करोल बाग मार्केट यहां पर आपको ₹55 सेट से लेकर ₹70 सेट के बीच में मिल जाएंगे यह अलग-अलग ब्रांड और कंपनी होने के कारण इनकी प्राइस रेंज में काफी फर्क नजर आता है
  2. परंतु अगर इन पर आप विशेष नजर डालेंगे तो आपको यह इंडिकेटर लगभग एक जैसे ही मिलेंगे इसलिए अगर आप लोकल ब्रांड इंडिकेटर मार्केट में सेल करना चाह रहे हैं तब आपको इसकी प्राइस रेंज के आधार पर ना लेकर सिर्फ क्वालिटी के आधार पर ही खरीद है जिसकी क्वालिटी आपको ज्यादा अच्छी हो वही लोकल ब्रांड मार्केट में चलाएं जिससे कि आपका इंडिकेटर मार्केट में जल्दी   बिक जाए |
  3. ओरिजिनल ब्रांड इंडिकेटर-

  1. bike auto parts business  यह इंडिकेटर लोकल इंडिकेटर से 2 से 3 गुना महंगा होता है पर यह इंडिकेटर जैन वन होता है बजाज टीवीएस का ओरिजिनल इंडिकेटर सबसे अच्छा और टिकाऊ माल होता है यह जिस भी साड़ी में एक बार लग जाता है तो वह काफी समय तक नहीं टूटते हैं अगर कभी गलती से गाड़ी गिर जाती है तब भी है इंडिकेटर जल्दी में नहीं टूटते हैं परंतु यह हिंदी गेटर महंगे होने के कारण हर कोई अपनी बाइक में नहीं लगाता है सस्ते इंडिकेटर अपनी बाइक में लगाते हैं

 परंतु ओरिजिनल ब्रांड इंडिकेटर के रूप में आप मिंडा स्विच आदि का इंडिकेटर भी  मार्केट में आप सेल कर सकते हैं यह मार्केट में काफी डिमांड में रहने वाला इंडिकेटर है और आप इस इंडिकेटर पर 20 परसेंट का मार्जन बड़े आराम से ले सकते हैं |

इंडिकेटर होलसेल मार्केट-बाइक इंडिकेटर होलसेल बिजनेस-

  बाइक इंडिकेटर का होलसेल मार्केट दिल्ली करोल बाग आप यहां से डायरेक्ट माल खरीद सकते हैं करोल बाग में आपको हर प्रकार का इंडिकेटर मिल जायेगा जिसकी आपको मार्केट में सेल करना है अगर कोई दुकानदार आपसे किसी ब्रांड की फरमाइश करता है तब भी आप उस ब्रांड का इंडिकेटर उसको उपलब्ध करवा सकते हैं अगर आप दिल्ली करोल बाग से इंडिगेटर खरीद कर ला रहे हैं |

बाइक इंडिकेटर का होलसेल बिजनेस कैसे करें-

इसके अलावा आप ऑनलाइन सर्च करके भी इंडिगेटर  का होलसेलर खोज सकते हैं आपको गूगल करना होगा उसमें आपको बहुत सारे इंडिगेटर के मैन्युफैक्चर मिल जाएंगे आप उनसे डायरेक्ट माल खरीद कर अपनी आंख सेल कर सकते हैं और बिजनेस को आगे बढ़ा सकते हैं और तीसरा तरीका है कि आप अपने यहां की होलसेल मार्केट जो भी आपकी राज्य में बड़ी मार्केट हो वहां से डायरेक्ट माल खरीद कर अपने  यहां पर  सेल कर सकते हैं |

 इंडिकेटर बिजनेस के लिए रजिस्ट्रेशन – 

अगर आप बाइक इंडिकेटर का बिजनेस शुरू कर रहे हैं तो आपको बिजनेस शुरू करने से पहले जीएसटी रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य है और आप जो इंडिकेटर मार्केट से खरीदेंगे उस पर आपको 28 पर्सेंट जीएसटी देनी होगी तभी आप वहां से माल खरीद कर अपने यहां से  सेल कर सकते हैं जीएसटी लेने के लिए आपको अपने जिले में सीएससी रजिस्ट्रेशन कराना होगा या फिर आप स्वयं ऑनलाइन भी जीएसटी के लिए आवेदन कर सकते हैं |

इंडिकेटर बिजनेस में लगने वाली कुल लागत- 

  इंडिकेटर बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको एक निश्चित राशि खर्च करनी पड़ेगी पहले आपको जीएसटी रजिस्ट्रेशन कराना होगा उसके बाद एक दुकान भी भाड़े पर लेनी होगी जहां पर आप अपना माल स्टॉक कर सकें जब आपका माल यानी कि इंडिकेटर खरीद का दिल्ली से लाएंगे|

तो उसको रखने के लिए भी आपको एक जगह चाहिए |उसके लिए आप एक दुकान भाड़े पर ले या फिर घर पर भी उसको रख सकते हैं इसके  अलावा आपको इंडिकेटर खरीदने के लिए कम से कम ₹50000 का इन्वेस्टमेंट करना पड़ेगा बाइक इंडिकेटर हर गाड़ी का अलग अलग होता है|

हीरो गाड़ी का अलग बजाज का टीवीएस का हर गाड़ी के अलग-अलग मॉडल होते हैं इसलिए आपको बहुत सारे मॉडल  के इंडिकेटर खरीदने पड़ेंगे इसलिए आपको कम से कम ₹50000 की आवश्यकता होगी इस बिजनेस को शुरू करने के लिए |

 रिस्क-

  bike auto parts बाइक इंडिकेटर बिजनेस में रिस्क तो ना के बराबर है परंतु फिर भी बिजनेस में कहीं ना कहीं थोड़ा बहुत रिस्क तो होता ही है अगर अब बाइक इंडिकेटर का बिजनेस कर रहे हैं तब आपको इस बात का अवश्य ध्यान रखना है कि आपके क्षेत्र में कौन-कौन सी बाइक चल रही है आप उन्हीं के इंडिकेटर लेकर आएं तो ज्यादा अच्छा होगा अगर आप हर एक गाड़ी का इंडिकेटर लेकर आते हैं जो गाड़ी आपके क्षेत्र में नहीं चल रही है|

उस गाड़ी का इंडिकेटर आपका सेल नहीं होगा वह स्टॉक आपके पास हमेशा ही पड़ा रहेगा इसलिए यह भी एक रिस्क है अगर आपने बिजनेस शुरू करने से पहले अपने मार्केट को नहीं समझा तो आप नुकसान उठाना पड़ सकता है इसलिए पहले  अपने मार्केट को समझें उसके बाद ही बाइक इंडिकेटर ऑटो पार्ट्स बिजनेस शुरू करें |